google-site-verification: googlefcc831f3afff5489.html google-site-verification=XK9IDkjU7jjUURp5A425iStvbYoDk39UO0ryXDjSqWw google-site-verification: googlefcc831f3afff5489.html History and Classification of Mobile malware, Notable mobile malicious programs ~ Blog on Computer, Blogging, Mobile Phones,Technology Network security tips banking Frauds, Malware,

History and Classification of Mobile malware, Notable mobile malicious programs

मोबाइल मैलवेयरभी कंप्यूटर मैलवेयर की तरह ही दुर्भावनापूर्ण सॉफ़्टवेयर(Malicious software) होता है जो सिस्टम के पतन(Collapse)  और गोपनीय जानकारी के नुकसान या रिसाव(Loss or leakage) के द्वारा  मोबाइल फोन या वायरलेस-सक्षम व्यक्तिगत डिजिटल सहायक (पीडीएPersonal Digital Assistant) को लक्षित करता है। जैसा कि आप सब लोग जानते हैं, वायरलेस फोन और पीडीए(personal Digital Assistant) नेटवर्क आजकल आम हो गए हैं लेकिन साथ ही जटिलता भी बहुत बढ़ गयी है।  वायरस या अन्य मैलवेयर के रूप में इलेक्ट्रॉनिक हमलों के खिलाफ उनकी रक्षा और सुरक्षा सुनिश्चित करना भी दिन दिन   कठिन तर होता जा रहा है।

History and Taxonomy of Mobile malware, Notable mobile malicious programs

मोबाइल मैलवेयर का इतिहास

सर्व प्रथम सेल फोन मालवेयर का उदहारण एक ब्राज़ीलियाई सॉफ्टवेयर इंजीनियर मार्कोस वेलास्को(Marcos Velasco) ने पेश किया था उन्होंने एक ऐसा वायरस बनाया, जिसका उपयोग किसी को भी खतरे के प्रति जनता को शिक्षित करने के लिए किया जा सकता था।

 

पहला ज्ञात मोबाइल वायरस, "टिमोफोनिका"(Timofonica), स्पेन में बनाया गया था और जून 2000 में रूस और फिनलैंड में एंटीवायरस लैब द्वारा इसे पहचाना(Detected) गया था। "टिमोफोनिका"(Timofonica) ने जीएसएम-सक्षम(Enabled) मोबाइल फोन पर एसएमएस संदेश भेजे थे जो (स्पैनिश भाषा में थे) जिनका टेक्स्ट था  "आपके लीये सूचना, टेलीफोनीका आपको बेवकूफ बना रहा है। ("Information for you: Telefónica is fooling you.")    ये संदेश Movi Star मोबाइल ऑपरेटर के इंटरनेट एसएमएस गेटवे के माध्यम से भेजे गए थे।

 

YOU MAY LIKE TO READ ON - How toRemove High Risk Dangerous Trojan.BitcoinMiner

 

इस मोबाइल वायरस"टिमोफोनिका"(Timofonica), द्वारा  किसी उपभोक्ता के कोई डाटा चोरी या अन्य किसी तरह के नुकसान की कोई जानकारी नहीं है।

 

जून 2004 में, यह पता चला कि ओजम(Ojam) नामक एक कंपनी ने अपने मोबाइल फोन गेम, मॉस्क्विटो(Mosquito) के पुराने संस्करणों में एक एंटी-पायरेसी ट्रोजन हैक(Anti-piracy Trojan hack) को इंजीनियर किया था। इसने उपयोगकर्ता की जानकारी के बिना कंपनी को टेक्स्ट एसएमएस भेजे।

 

जुलाई 2004 में, कंप्यूटर होब्ब्यिस्ट(Computer hobbyists) ने एक प्रूफ-ऑफ-कॉन्सेप्ट वायरस कैबिर(Proof-of-concept virus Cabir) जारी किया, जो सिम्बियन ऑपरेटिंग सिस्टम पर चलने वाले मोबाइल फोन को संक्रमित करता था त्तथा  ब्लूटूथ  के माध्यम से फैलता था।

 

मार्च 2005 में, यह सामने आया कि एक कंप्यूटर वर्म(Computer worm) जिसका नाम कमवारियर-(Commwarrior-A) रखा गया था, सिम्बियन श्रृंखला 60(Symbian series 60) ऑपरेटिंग सिस्टम पर चलने वाले मोबाइल फोन को संक्रमित कर रहा था। यह विशिष्ट कृमि(Worm) अपनी प्रतिकृतियां बनाता था तथा फोन के मल्टीमीडिया मैसेजिंग सर्विस (एमएमएस) का उपयोग करके, ये प्रतिकृतियां फोन उपयोगकर्ता की पता पुस्तिका में सूचीबद्ध सभी संपर्कों को भेजता  था।

 

YOU MAY LIKE TO READ ON - Computer Eye Syndrome or the digital Eyestrain-causes, symptoms safety measures


 

अगस्त 2010 में एंटी वायरस निर्माता कंपनी, कास्परस्की लैब(Kaspersky Lab) ने ट्रोजन- एसएमएस एंड्राइड ओएस  फेक प्लेयर(SMS.AndroidOS.Fake Player.a) का पता लगाया। इसे गूगल के एंड्राइड ऑपरेटिंग सिस्टम को प्रभावित  करने वाला पहला एसएमएस मालवेयर माना जाता है।  इस ट्रोजन ने फ़ोन के मालिक की जानकरी के बिना प्रीमियम रेट नंबर पर एसएमएस संदेश भेजे, जिससे उपभोक्ताओं को भारी बिल भुगतने पड़े।

 

वर्तमान में, विभिन्न एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर कंपनियां तथा ऑपरेटिंग सिस्टम डेवलपर्स आपसी सहयोग से अपने डिजिटल एप्लिकेशन वितरण प्लेटफार्मों जैसे Google Play या Apple के ऐप स्टोर के माध्यम से पेश किए गए सॉफ़्टवेयर और सामग्री पर गुणवत्ता नियंत्रण जांच के साथ संक्रमण के प्रसार को रोकने का प्रयास करते हैं। हाल के अध्ययनों से पता चलता है कि मोबाइल मैलवेयर के तेजी से विकास के कारण मोबाइल एंटीवायरस प्रोग्राम भी अप्रभावी साबित हो रहे हैं।

 

YOU MAY LIKE TO READ ON - How to setyour blog header image alignment using Blogger Template Designer


 

दुर्भावनापूर्ण प्रोग्रामों(Malicious programs) का वर्गीकरण

 

वेब दुनिया में साइबर अपराधियों ने मोबाइल उपकरणों को प्रभावित करने तथा नुकसान पहुँचाने वाले कई प्रकार के दुर्भावनापूर्ण प्रोग्राम फैला रखे हैं। विशेज्ञों ने इनको अलग अलग श्रेणियों में रखा है। प्रमुख श्रेणियां इस प्रकार हैं -:

 

एक्सपैंडर्स(Expander) - ये ऐसे मैलवेयर है जिनके जरिये साइबर क्रिमिनल अतिरिक्त फोन बिलिंग द्वारा लाभ कमाने के लिए उपभोक्ता के डिवाइस में विस्तारक(Expander) मैलवेयर इंसटाल कर देते हैं जो मोबाइल मीटर को टारगेट करता है तथा मोबाइल का बिल बढ़ जाता है।

 

कृमि(Worm) - इस स्टैंड-अलोन प्रकार(Stand-alone type) के मैलवेयर का मुख्य उद्देश्य खुद की प्रतिकृति उत्पन्न करने  और अन्य उपकरणों में फैलाने की अंतहीन प्रक्रिया चालू रखना है किसी भी कृमि(Worm) में हानिकारक और भ्रामक निर्देश भी हो सकते हैं। मोबाइल वर्म(Mobile Worm) को टेक्स्ट मैसेज एसएमएस या एमएमएस के माध्यम से प्रेषित किया जा सकता है और आमतौर पर निष्पादन के लिए उपयोगकर्ता से इंटरैक्शन की आवश्यकता नहीं होती है।

 

YOU MAY LIKE TO READ ON - Diabetes mellitus Effects, Types, Complications Treatment of Diabetes Mallitus 


 

ट्रोजन(Trojan) - कृमि के विपरीत, ट्रोजन हॉर्स को सक्रिय करने के लिए(To be activated) हमेशा उपयोगकर्ता इंटरैक्शन(User interaction) की आवश्यकता होती है। इस तरह के वायरस को आमतौर पर आकर्षक और गैर-दुर्भावनापूर्ण निष्पादन योग्य फ़ाइलों या अनुप्रयोगों(Programs) में छुपाया जाता है जो डिवाइस पर डाउनलोड होते हैं और उपयोगकर्ता द्वारा निष्पादित होते हैं। एक बार सक्रिय होने के बाद, मैलवेयर अन्य अनुप्रयोगों(Programs) या फोन को संक्रमित और निष्क्रिय करके गंभीर नुकसान पहुंचा सकता है, एक निश्चित अवधि या संचालन की एक निश्चित संख्या के बाद इसे लकवाग्रस्त(Paralyze) कर देता है।

 

यूशरप्शन(Usurpation) -  Usurpation का अर्थ होता है अपरण और जैसा नाम वैसा काम।  यह मैलवेयर भी डाटा का अपह्रण करता है और इसी लिए इसका नाम भी डेटा (स्पाइवेयर) सही रखा गया है। यह डाटा चुरा कर दूरस्थ सर्वर पर भेजता है।  कैलेंडर, ईमेल अकाउंट, नोट्स और किसी भी अन्य स्रोत के साथ दूरस्थ सर्वर पर भेजे जाने से पहले सिंक्रनाइज़ करता है।

 

स्पाइवेयर(Spyware) -  यह मैलवेयर उपयोगकर्ता की सहमति या जानकारी के बिना किसी उपयोगकर्ता की व्यक्तिगत या संवेदनशील जानकारी को एकत्र, उपयोग और वेब(Web) पर फैलाकर मोबाइल उपकरणों के लिए खतरा पैदा करता है। इसे ज्यादातर चार श्रेणियों में वर्गीकृत किया गया है: सिस्टम मॉनिटर, ट्रोजन, एडवेयर और ट्रैकिंग कुकीज़Spyware(System monitors,Ttrojans, Adware, and Tracking cookies)

 

YOU MAY LIKE TO READ ON - Understanding The Glossary of commonwireless network terms on the web


 

बैक डोर(Backdoor) - यह मैलवेयर कंप्यूटर सिस्टम/डिवाइस में अनधिकृत पहुंच प्राप्त करने के लिए सुरक्षा प्रतिबंधों को दरकिनार करने का एक गुप्त तरीका है। सरल शब्दों में कहें तो एक बैकडोर मैलवेयर एक ऐसा मालिसियस कोड(MaliciousCode) होता है जो उपभोक्ता की जानकारी के बिना दूसरों को किसी उपभोक्ता के सिस्टम के अंदर आने  और बाहर जाने की व्यवस्था करता है।

 

ड्रॉपर(Dropper) - मैलवेयर ड्रॉपर(Dropper) किसी डिवाइस पर बिना यूजर की अनुमति और जानकारी के अन्य प्रोग्राम इंस्टॉल करने के लिए डिज़ाइन किया गया है इनमें अन्य दुर्भावनापूर्ण प्रोग्राम(Makicious Program) या हानि रहित  एप्लिकेशन भी शामिल हो सकते हैं जिनको  फैलाने में हमलावर की रुचि हो।(अक्सर ऐसा किसी मालवेयर अभियान में वित्तीय लाभ के लिए ही किया जाता है)

 

YOU MAY LIKE TO READ ON - Google Clock app, Silent Mode, bedtime options,Digital Wellbeing


 

उल्लेखनीय मोबाइल दुर्भावनापूर्ण प्रोग्राम Notable mobile malicious programs

 

कैबिर(Cabir) - यह मैलवेयर सिम्बियन ओएस पर चलने वाले मोबाइल फोन को संक्रमित करता है और पहली बार जून 2004 में पहचाना गया था। जब एक फोन संक्रमित होता है तथा जब फोन स्टार्ट/रीस्टार्ट होता है तब, फोन के स्क्रीन पर 'कैरिब'(Caribe) संदेश प्रदर्शित होता है कृमि(Worm) तब वायरलेस ब्लूटूथ सिग्नल का उपयोग करके रेंज में आने वाले अन्य फोन में फैलने का प्रयास करता है, हालांकि प्राप्तकर्ता द्वारा मैन्युअल रूप से इसकी पुष्टि करने के बाद ही यह उसके फ़ोन में इंसटाल हो सकता है।

 

डट्स(Duts) - यह फ़ाइल इन्फ़ेक्टर परजीवी वायरस(File infector parasitic virus) पॉकेट पीसी प्लेटफॉर्म के लिए पहला ज्ञात वायरस है। यह उन  सभी .EXE फ़ाइलों को संक्रमित करने का प्रयास करता है जो वर्तमान निर्देशिका में 4096 बाइट्स(4 KB) से बड़ी हैं।

 

YOU MAY LIKE TO READ ON - SSD Vs HDD: What's the Difference Which one you must Choose 

 

खोपड़ी(Skulls) - यह एक ट्रोजन हॉर्स है जो मुख्य रूप से सिम्बियन ओएस को  टारगेट करता है। एक बार डाउनलोड हो जाने  के बाद, वायरस फोन के सभी डेस्कटॉप आइकन को एक खोपड़ी की इमेज से बदल देता है फ़ोन के सभी अप्प्स)Apps) को बेकार कर देता है यह ट्रोजन हॉर्स मैलवेयर को फ़ैलाने के लिए  संक्रमित डिवाइस के माध्यम से सुलभ सभी संपर्कों(Contacts) को दुर्भावनापूर्ण लिंक वाले सामूहिक टेक्स्ट सन्देश(Mass text messages containing Malicious links)  भेजता है यह मास टेक्सटिंग यूजर के फोन बिल को भी प्रभावित कर सकता है।

 

कॉमनवारियर(Commwarrior) - इस मैलवेयर की पहचान 2005 में की गई थी। यह MMS संदेशों का उपयोग करने वाला पहला वर्म(Worm) था और यह ब्लूटूथ के माध्यम से भी फैल सकता था। यह OS सिम्बियन सीरीज़ 60 के तहत चलने वाले उपकरणों को संक्रमित करता था। निष्पादन योग्य कृमि फ़ाइल(executable worm files), एक बार लॉन्च होने पर, सुलभ ब्लूटूथ उपकरणों(Accessible Bluetooth devices) को शिकार बनता है और संक्रमित फ़ाइलों को यादृच्छिक नाम से(Under a random name) से विभिन्न उपकरणों(Devices) में भेजता है।

 

YOU MAY LIKE TO READ ON - 10 most popular Graphicscards ranked, from fastest to slowest


 

जिंजरमास्टर(Gingermaster) - यह एंड्रॉइड प्लेटफॉर्म के लिए विकसित किया गया एक ट्रोजन है जो पृष्ठभूमि(Background) में स्थापना के बाद छिपे हुए मैलवेयर को शामिल करने वाले प्रोग्रामों को स्थापित करके प्रचारित करता है। यह विशेषाधिकारित वृद्धि द्वारा सुपर-उपयोगकर्ता अनुमतियों का उपयोग करने के लिए ऑपरेटिंग सिस्टम के जिंजरब्रेड संस्करण में धोखाधड़ी का फायदा उठाता है। फिर यह एक सेवा बनाता है जो संक्रमित टर्मिनलों (उपयोगकर्ता आईडी, नंबर सिम, फोन नंबर, आईएमईआई, आईएमएसआई, स्क्रीन रिज़ॉल्यूशन और स्थानीय समय) से जानकारी चोरी करता है।

 

ड्रोइडकुंगफू(DroidKungFu) - यह एंड्रॉइड प्रोग्रामों में एक ट्रोजन सामग्री, जिसे निष्पादित करते समय, रूट विशेषाधिकार प्राप्त कर लेता है और फ़ाइल com.google स्थापित करता है। एससर्च एपीके(ssearch.apk,) जिसमें एक बैक डोर(Backdoor) होता है जो फ़ाइलों को हटाने की अनुमति देता है, होम पेजों की आपूर्ति करने के लिए खुला होता है, और 'खुला वेब और डाउनलोड और इंस्टॉल' एप्लीकेशन पैकेज। यह वायरस टर्मिनल पर उपलब्ध सभी  डेटा को इकट्ठा करके एक दूरस्थ सर्वर को  भेजता है।

 

YOU MAY LIKE TO READ ON - अपना विंडोज पासवर्ड ऐसे बदलें या रीसेट करें Change or reset your Windows password

 

आइकी(Ikee) - आइकी(Ikee) एक वर्म(Worm) है जो एप्पल के आईओएस(Apple iOS) प्लेटफार्म को प्रभावित करता है और यह आईओएस प्लेटफॉर्म के लिए डिज़ाइन किया जाने वाला पहला वर्म(Worm) माना जाता है। यह केवल उन टर्मिनलों पर काम करता है जिन्हें पहले जेलब्रेक की प्रक्रिया बना दिया गया था, और यह एसएसएच प्रोटोकॉल का उपयोग करके अन्य उपकरणों तक पहुंचने में सफल होता है, जो पहले सबनेट के माध्यम से  डिवाइस से जुड़ा हुआ होता है। फिर, यह एक यादृच्छिक श्रेणी(Rrandom range) उत्पन्न करने वाली प्रक्रिया को दोहराता है और अंत में कुछ टेलीफोन कंपनियों के आईपी पते के अनुरूप कुछ प्रीसेट रेंज का उपयोग करता है। एक बार जब कंप्यूटर संक्रमित हो जाता है, तो वॉलपेपर को गायक रिक एस्टले की तस्वीर से बदल दिया जाता है, रिक्रॉल घटना का संदर्भ होता है।

 

गनपोडर(Gunpoder) - यह फ़ाइल इंफ़ेक्टर वर्म(Worm)  वायरस पहला ज्ञात वेरिएंट है, जिसने ब्राज़ील सहित कुछ देशों में Google Play Store को आधिकारिक रूप से संक्रमित किया है।

 

शेडून(Shedun) - यह एंड्रॉइड डिवाइस को रूट करने में सक्षम मैलवेयर परोसने वाले एडवेयर है ।

 

YOU MAY LIKE TO READ ON - Complete Guide on YouTube subscribe and join difference benefits 

 

हमिंगबड(HummingBad) - 2016 में 10 मिलियन से अधिक एंड्रॉइड ऑपरेटिंग सिस्टम हमिंगबड(HummingBad) से संक्रमित हो गए थे। लोगों के उपयोगकर्ता विवरण बेचे गए और विज्ञापन उपयोगकर्ता के ज्ञान के बिना टैप किए गए, जिससे धोखाधड़ी विज्ञापन राजस्व उत्पन्न हुआ।

 

तो यह थी  मोबाइल मैलवेयर का इतिहास, मोबाइल मैलवेयर का वर्गीकरण, प्रमुख मोबाइल मैलवेयर का विवरण आदि की लंबी चौड़ी राम कहानी जो हमने आपकी सेवा में प्रस्तुत की आशा करते हैं कि हमारा प्रयास आपको पसंद आया होगा कृपया हमारे ब्लॉग को सब्सक्राइब करें हमारी पोस्ट को अपने मित्रों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर करें अपनी राय हमें कमेंट के जरिए दें हमारी वेबसाइट पर विजिट करने के लिए धन्यवाद। अगर आप हमसे कुछ और पूछना चाहते हैं या हमसे संपर्क करना चाहते हैं तो हमारी पोस्ट पर कमेंट करके या हमारी वेबसाइट के होम पेज पर मौजूद कांटेक्ट फार्म का इस्तेमाल करके हमसे संपर्क कर सकते हैं अगर आप हमसे संपर्क करेंगे तो हमें बहुत प्रसन्नता होगी नमस्कार धन्यवाद आपका दिन शुभ हो

what is mobile malware, first mobile phone virus name, mobile malware statistics 2020, mobile malware meaning, What type of malware is spreading via mobile device use, Which is the first virus that infected a mobile phone, What are the three recognized variants of malicious mobile code

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

Please Donot spam