Google Play Protect-The Android security system that never sleeps Best Android Antivirus protection protects 2 million users daily


Google Play Protect हानिकारक ऐप्स के विरुद्ध प्रभावी सुरक्षा
दोस्तों हमने अभी पिछले दिनों में  एक वीडियो बनाया था जिसमें android फोन में दोस्तों द्वारा इंस्टॉल किए जाने वाले 5 हानिकारक  एप्स के बारे में बताया था अगर आप यह वीडियो देखना चाहें तो इस लेख के अंत में उसकी एम्बेडेड लिंक दी गयी है । इन 5 हानिकारक  एप्स में.  एक था android device में एंटीवायरस सॉफ्टवेयर इंस्टॉल करना। इस बारे में बहुत से दोस्तों में पूछा है कि अगर एंटीवायरस जरूरी नहीं है तो क्यों नहीं है और स्मार्टफोन की सुरक्षा का क्या होगा। दोस्तों इसीलिए हमने फिर एक बार अपनी बात दोहराई है कि  android में एंटीवायरस सॉफ्टवेयर की कतई आवश्यकता नहीं है बल्कि इससे हानि ही होती है हमारा विस्तृत जवाब और प्रमाण आपके विचार हेतु प्रस्तुत है। कृपया अपने विचारों से अवगत कराएं
Google play protect
Google Play Pretect

Google Play Protect आपके एंड्राइड में क्या क्या करता है
गूगल प्ले प्रोटेक्ट और एंड्राइड दोनों गूगल के ही उत्पाद हैं अतः गूगल का नाम ही सर्वश्रेष्ठ होने का प्रतीक है। गूगल प्ले प्रोटेक्ट एंड्राइड की आवश्यकताओं को ध्यान में रख के डिज़ाइन किया गया है इस लिए यही एंड्राइड के लिए सर्वोत्तम है। Google Play Protect आपको अपने डिवाइस को सुरक्षित रखने में सहायता करता है।यह Google Play Store या अन्य किसी वेबसाइट से ऐप्स डाउनलोड करने से पहले ऐप्स पर सुरक्षा जांच चलाता है। यह अन्य स्रोतों से संभावित रूप से हानिकारक ऐप्स के लिए आपके डिवाइस की जांच करता है। इन हानिकारक ऐप्स को कभी-कभी मैलवेयर कहा जाता है। यह आपको किसी भी संभावित हानिकारक ऐप्स के बारे में चेतावनी देता है, और आपके डिवाइस से ज्ञात हानिकारक ऐप्स को हटा देता है। यह आपको पता लगाए गए ऐप्स के बारे में चेतावनी देता है जो महत्वपूर्ण जानकारी छिपाने या गलत तरीके से प्रस्तुत करके हमारी अनचाहे सॉफ्टवेयर नीति का उल्लंघन करते हैं।
Google Play Protect कैसे काम करता है
जब भी आप अपने ऐंड्रोइड फोन में कोई एप्प डाउनलोड करते हैं तो Google Play Protect इन ऐप्स को चेक/स्कैन करता है। यदि यह पाता है, कि किसी अप्प में हानिकारक एलिमेंट मालकोड आदि होने की संभावना है तो यह आप को वार्निंग देता है, उस ऐप को डाउनलोड होने से रोक देता है, और हो सकता है कि आप वार्निंग को अनदेखा करके डाउनलोड करलें तो इंस्टालेशन ब्लॉक कर देगा। मालिसियस प्रोग्राम को चलने नहीं देगा।  यह समय-समय पर आपके डिवाइस को लगातार स्कैन करता रहता है।
विस्तार से जानने के लिए यह वीडियो देखें। Watch this small video to learn the steo by step process

यदि स्वचालित स्कैन/मॉनिटरिंग में पता चलता हैकि आपकी डिवाइस में कोई ऐसा ऐप  है जो आपके डिवाइस के लिए हानिकारक हो सकता है, तो उस हानिकारक एप्प को अनइंस्टॉल करने के लिए आपको  एक सूचना प्राप्त होगी। ऐसी सूचना प्राप्त होने पर आप तुरंत उस एप्प पर टेप करें और अनइंस्टॉल करें । कुछ मामलों में, यदि Google Play Protect को किसी हानिकारक ऐप का पता चलता है, तो आपके स्मार्टफोन की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए Google Play Protect उस एप्प को अपने आप भी हटा देता है और आपको सूचित कर देता है कि हानिकारक ऐप हटा दिया गया था।

मैलवेयर सुरक्षा कैसे काम करती है

आपको दुर्भावनापूर्ण तृतीय पक्ष सॉफ़्टवेयर, यूआरएल और अन्य सुरक्षा समस्याओं(Third party Mallicious software, URL,and other security problems) से बचाने के लिए, Google को आप के डिवाइस के नेटवर्क कनेक्शन, संभावित हानिकारक यूआरएल, ऑपरेटिंग सिस्टम और Google Play या अन्य स्रोतों के माध्यम से आपके डिवाइस पर इंस्टॉल किए गए ऐप्स के बारे में जानकारी मिल सकती है। आपको Google से तमाम ऐसे ऐप या यूआरएल के बारे में चेतावनी मिल सकती है जो असुरक्षित हो सकती है।

यदि किसी एप्प, यूआरएल को डिवाइस, डेटा या उपयोगकर्ताओं के लिए हानिकारक माना जाता है तो ऐप या यूआरएल को Google द्वारा इंस्टॉलेशन से हटाया(delete) जा सकता है या अवरुद्ध(Block) किया जा सकता है
 
आप अपनी डिवाइस सेटिंग्स में इनमें से कुछ सुरक्षा सेटिंग्स को अक्षम(disable) करना चुन सकते हैं। लेकिन Google को Google Play के माध्यम से इंस्टॉल किए गए ऐप्स के बारे में जानकारी प्राप्त हो सकती है, और अन्य स्रोतों से आपके डिवाइस पर इंस्टॉल किए गए ऐप्स को Google को जानकारी भेजे बिना, सुरक्षा समस्याओं के लिए विश्लेषण करना जारी रख सकता है।
अपनी ऐप सुरक्षा स्थिति की जांच तथा Google Play Protect चालू या बंद कैसे करें

आप अपने डिवाइस पर Google Play Protect में जाकर अपनी डिवाइस और सभी एप्प्स की स्थिति की  स्थिति की जांच कर सकते हैं

अपने एंड्रॉइड डिवाइस के Google Play Protect ऐप को खोलें।
यहाँ आप पिछली स्कैन का विवरण तथा आपकी डिवाइस की स्थिति  देख सकते हैं। देखने के बाद फिर सेव कर दें।

Google Play Protect को चालू या बंद इस तरह करें

अपने एंड्राइड के ऍप्स खोलें।
 
अब आपको सेटिंग(Setting) खोलनी है कृपया ध्यान दें कि यहां आपको दो सेटिंग आइकॉन मिलेंगी एक सेटिंग और दूसरी गूगल सेटिंग। तो यहाँ आपको गूगल सेटिंग खोलनी है।
 
अब आपके सामने एक लिस्ट खुलेगी। यहाँ इस लिस्ट में से आपको सिक्योरिटी(Security) को चुनना है।
 
जब आप सिक्योरिटी(Security) पर tap करेंगे तो अगला मेनू जो खुलेगा उसमें सबसे नीचे "गूगल प्ले प्रोटेक्ट Google Play Protect " दिखेगा  

अब आप Google Play Protect पर tap करें।

अब आपके सामने "गूगल प्ले प्रोटेक्ट Google Play Protect " खुल जायेगा । यहाँ आप अपनी डिवाइस की पिछली स्कैन का विवरण तथा डिवाइस की स्थिति देख सकेंगे।
 
उसके नीचे दो ऑप्शन होंगे (1) Scan Device For Security Threates (2) Improve Harmful App Detection 

इन दोनों ऑप्शन के सामने एक एक छोटा बॉक्स बना होगा।
 
अगर आपको एक्टिवेट/इनेबल करना है तो दोनों बॉक्स को चैक कर दें।
 
अगर आपको डिएक्टिवेट/डिसेबल करना है तो दोनों बॉक्स को अनचेक कर दें।
 
बाई डिफ़ॉल्ट "गूगल प्ले प्रोटेक्ट Google Play Protect " एक्टिवटेड/इनेबल्ड होता है और सर्वश्रेष्ठ परिणाम प्राप्त करने के लिए इसे एक्टिवटेड/इनेबल्ड ही रखें।


गूगल प्ले प्रोटेक्ट और एंड्राइड दोनों गूगल के ही उत्पाद हैं अतः गूगल का नाम ही सर्वश्रेष्ठ होने का प्रतीक है। गूगल प्ले प्रोटेक्ट एंड्राइड की आवश्यकताओं को ध्यान में रख के डिज़ाइन किया गया है इस लिए यही एंड्राइड के लिए सर्वोत्तम है। Google Play Protect आपको अपने डिवाइस को सुरक्षित रखने में सहायता करता है।यह Google Play Store या अन्य किसी वेबसाइट से ऐप्स डाउनलोड करने से पहले ऐप्स पर सुरक्षा जांच चलाता है। यह अन्य स्रोतों से संभावित रूप से हानिकारक ऐप्स के लिए आपके डिवाइस की जांच करता है। इन हानिकारक ऐप्स को कभी-कभी मैलवेयर कहा जाता है।

 










विशेष निवेदन - हमारा प्रयास कैसा रहा इस विषय में कृपया कमेंट करे। विपरीत राय देने में कतई संकोच करें अपनी राय निष्पक्ष दे। कृपया हमारे ब्लॉग के सदस्य बने तथा हमारा फेसबुक पेज लाइक करें। हमारे यूट्यूब चैनल स्टार्ट विथ विकिग्रीन को सब्सक्राइब करें।Please subscribe our youtube channel “Start With Wikigreen”
 


0 टिप्पणियाँ: