google-site-verification: googlefcc831f3afff5489.html google-site-verification=XK9IDkjU7jjUURp5A425iStvbYoDk39UO0ryXDjSqWw google-site-verification: googlefcc831f3afff5489.html इनकॉग्निटो मोड और वीपीएन में क्या फर्क हैWhat’s the Difference Between Incognito Mode and VPN ~ Blog on Computer, Blogging, Mobile Phones,Technology Network security tips banking Frauds, Malware,

इनकॉग्निटो मोड और वीपीएन में क्या फर्क हैWhat’s the Difference Between Incognito Mode and VPN

इनकॉग्निटो मॉड, इन प्राइवेट ब्राउजिंग, वीपीएन क्या है। वीपीएन सुरक्षा में अंतराल, वीपीएन और इनकॉग्निटो मॉड दोनों का एक साथ इस्तेमाल कैसे करें, कितना विश्वसनीय है वीपीएन

वीपीएन और इनकॉगनिटो मोड ऑनलाइन गोपनीयता के लिए दो सबसे लोकप्रिय टूल हैं। जब आप इंटरनेट पर ब्राउज़िंग कर रहे होते हैं तो वीपीएन(Virtual Private Network) आपको इंटरनेट पर मौजूद अन्य लोगों के लिए आपको ट्रैक किया जाना कठिन बनाता है, जबकि इनकॉग्निटो मोड आपको एक तरह से नया ब्राउज़र उपलब्ध करा देता है जो आपकी ब्राउजिंग हिस्ट्री को याद नहीं रखता है - और वीपीएन पर ब्राउज़ करते समय आपको वेबसाइटों से दूर नहीं करता है।

 

इनकॉग्निटो मॉड ब्राउजिंग वर्सेस वीपीएन इनमें अच्छा कौन सा है?

इनकॉग्निटो मोड क्या है?What Is Incognito Mode?

 

प्राइवेट ब्राउज़िंग के बहुत से नाम हैं, जैसे कि Google Chrome, में इनप्राइवेट ब्राउजिंगInPrivate browsing, Firefox मैं न्यू प्राइवेट विंडोNew Private Window और Microsoft Edge में Incognito Mode शामिल हैं अपने इस लेख में आगे इनकॉग्निटो शब्द ही इस्तेमाल करेंगे। इनकॉग्निटो मोड का उद्देश्य आपके ब्राउज़र को अस्थायी यानी जब तक आप उस विशिष्ट मोड में ब्राउजिंग कर रहे हैं तब तक amnesia(भूलने की बीमारी) देना है। जब भी आप इनकॉग्निटो मोड में होते हैं, तो उस अवधि में के लिए आपका ब्राउज़र आपके द्वारा देखी गई साइटों का डेटा संग्रहीत नहीं करेगा: कोई URL नहीं, कोई कुकीज़ नहीं, आपके द्वारा दर्ज किए गए डेटा में से कोई भी नहीं, यानी कुछ भी नहीं।

 

जब आप इनकॉग्निटो मॉड में होते हैं तो आपका ब्राउज़र आपको एक फ्रेश ब्राउज़र उपलब्ध कराता है जिसमें कोई बुकिंग नहीं होती इनकॉग्निटो मोड आपको बिना किसी कुकीज़ के एक फ्रेश ब्राउज़र स्टेटस भी देता है। इसलिए, यदि आप अपने सामान्य ब्राउज़र विंडो में किसी वेबसाइट में लॉग इन हैं, तो आप एक इनकॉग्निटो मोड विंडो खोल सकते हैं और आपका ब्राउज़र अपनी मेमोरी में यह नहीं दिखाएगा कि आपने उस वेबसाइट पर लॉगिन किया था

YOU MAY LIKE TO READ ON - Make your Microsoft Word Document Password Protected andmake them safe and secure-


जब आप इनकॉग्निटो मोड में ब्राउज़ करते हैं, तो आप जो कुछ भी अपने ब्राउज़र में करते हैं वह आपके ब्राउज़र द्वारा याद नहीं रखा जाएगा। आपके द्वारा देखे गए वेब पृष्ठ आपके ब्राउज़िंग इतिहास या जब आप अपने "हाल ही में देखे गए" टैब देखेंगे उनमें भी दिखाई नहीं देंगे यदि आप किसी वेबसाइट में लॉग इन करते हैं और आपने वह विंडो बंद कर दी, तो आपका ब्राउज़र भूल जाएगा कि आप कभी किसी साइड में साइन इन थे।

 

यद्यपि आपका कोई भी ब्राउज़िंग डेटा आपके कंप्यूटर पर संग्रहीत नहीं है, लेकिन इसका मतलब यह कतई नहीं है कि यह डाटा दूसरे छोर पर भी सेव नहीं किया गया है तथा मिटा दिया गया है। आपके द्वारा देखी जाने वाली वेबसाइटें अभी भी आपके आईपी पते(IP ADDRESS) को देख सकती हैं, आपका इंटरनेट सेवा प्रदाता अभी भी आपकी गतिविधि देख सकता है, और आपके कार्यस्थल पर सिस्टम प्रशासक(System Administrators) अभी भी यह जान पाएंगे कि आप उस समय क्या ब्राउजिंग कर रहे हैं थे। इनकॉग्निटो और अन्य प्राइवेट-ब्राउज़िंग मोड आपको ऑनलाइन गुमनाम(Anonymous) नहीं बनाते हैं।

 

YOU MAY LIKE TO READ ON - Microsoft Office Word-Text styles, Text Decoration andWriting Styles-


वीपीएन क्या है?What Is a VPN?

 

जब आप वीपीएन से कनेक्ट करते हैं, तो यह एक निजी सर्वर का उपयोग करके इंटरनेट से कनेक्ट होगा, जिससे यह प्रतीत होगा कि आप किस वेबसाइट पर पहुंच रहे हैं उस वेबसाइट पर आप नहीं वह सर्वर पहुंच रहा है दूसरे शब्दों में इसे यूं समझिए, मान लीजिए आप अपने एक सोशल मीडिया अकाउंट पर विजिट करना चाहते हैं तो पहले आप एक प्राइवेट सर्वर पर कनेक्ट होंगे आपका आईपी एड्रेस उस प्राइवेट सर्वर तक ही जाएगा तथा आपके सोशल मीडिया अकाउंट की वेबसाइट पर आपका आईपी एड्रेस जाकर उस प्राइवेट सर्वर का आईपी ऐड्रेस जाएगा इस प्रकार से आपके द्वारा उपयोग की जाने वाली वेबसाइटें आपके वास्तविक आईपी पते को नहीं देखती हैं। वे केवल वीपीएन के सर्वर का आईपी ऐड्रेस ही देख सकेंगे।

 

यह ब्राउज़ करते समय आपकी समग्र गोपनीयता में सुधार करता है, इसके अतिरिक्त आपका लोकेशन भी गुप्त रहेगा क्योंकि आप दुनिया के किसी भी कोने से ब्राउज़र कर रहे हैं लेकिन जिस वेबसाइट पर आप विजिट कर रहे हैं वहां आपका लोकेशन जाकर वीपीएन सर्वर का लोकेशन ही जाएगा

 

YOU MAY LIKE TO READ ON - Is there a Virus in your PC how to check and removeक्या आपके कंप्यूटर में वायरस है? कैसे पता करें कैसे हटाए 

 

यह आपको क्षेत्र प्रतिबंधों(Region Restrictions) को दरकिनार करने की अनुमति देता है, उदाहरण के लिए, नेटफ्लिक्स, या कुछ देशों में छुट्टी के समय ऑनलाइन बैंकिंग का उपयोग करना। यह ऑनलाइन सेंसरशिप को बायपास करने और दमनकारी शासन वाले देशों में राज्य द्वारा की जाने वाली ट्रैकिंग से बचने का एक शानदार तरीका है।

 

यही कारण है जो वीपीएन को उपयोगकर्ताओं की एक विस्तृत श्रृंखला के बीच लोकप्रिय बनाते हैं, जिनमें ऐसे लोग भी शामिल हैं जो उनकी गोपनीयता के बारे में चिंतित है, मानवाधिकार कार्यकर्ता जो दमनकारी शासन वाले देशों में रहते हैं, और वे लोग जो नवीनतम फिल्में डाउनलोड करने के लिए बिटटोरेंट का उपयोग करते हैं।

 

वीपीएन सुरक्षा में अंतरालThe Gaps in VPN Security

 

एक वीपीएन आपको एक एन्क्रिप्टेड कनेक्शन के माध्यम से रूट करके काम करता है जिसे एक सुरक्षित सुरंग(Secure Tunnel) कहा जाता है। आपका ISP(Internet Service Provider) या एक नेटवर्क व्यवस्थापक(Network Administrator) यह देख सकता है कि आप किसी बाहरी सर्वर से कनेक्ट हो रहे हैं - लेकिन VPN- वह वेबसाइट नहीं जिससे आप उससे परे जुड़े है प्रक्रिया का यह हिस्सा एक आकर्षण की तरह काम करता है, क्योंकि सुरंगें(Tunnel) आमतौर पर एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन का उपयोग करती हैं।

 

हालांकि, वीपीएन का उपयोग करना पूर्ण गुमनामी(Anonymity) की गारंटी नहीं देता है। जबकि आपका कनेक्शन बंद है, और यदि आप अपने सोशल मीडिया या Google खातों में साइन इन रहते हैं, तब भी वे आपको ट्रैक कर सकते हैं। दूसरे शब्दों में: यदि आप Google में साइन इन करते हैं, तो एक वीपीएन से कनेक्ट करें, और फिर अपने सामान्य ब्राउज़र का उपयोग करते रहें, जहाँ आपने Google में साइन इन किया है - निश्चित रूप से, Google अभी भी जानता है कि आप कौन हैं। आपके ब्राउज़र में सहेजी(Saved) वीडियो, ब्राउज़र कुकीज़ का उपयोग आपको ट्रैक करने के लिए भी किया जा सकता है। (इनकॉग्निटो(Incognito) मोड आपको इन समस्याओं से बचने के लिए एक स्वच्छ ब्राउज़र स्थिति(Clean Browser State) प्रदान करता है।)

 

YOU MAY LIKE TO READ ON - How to use quora to promote blog Quora पर ब्लॉग कैसे प्रोमोट करें 

 

यहाँ कमरे में हाथी है तथा वह जिस वीपीएन सेवा का आप उपयोग कर रहे हैं, वह जब भी आप सक्रिय हैं यानी एक्टिव हैं दूर होने वाली हर एक चीज को देख सकता है।

एक तरह से, आप अपने आईएसपी या अपने बॉस द्वारा अपने वीपीएन द्वारा ट्रैकिंग के लिए सौदा कर रहे हैं। हालाँकि, अपने पैकेज के हिस्से के रूप में, अधिकांश वीपीएन नियमित रूप से अपने लॉग को हटाने का वादा करते हैं - जिसमें किसी भी उपयोगकर्ता द्वारा किए गए कनेक्शन का इतिहास भी शामिल है। यह आम तौर पर "नो-लॉग्स"(“no-logs”) पॉलिसी के रूप में विज्ञापित किया जाता है, और कागज पर, इसका सीधा सा मतलब यह है कि वीपीएन के पास आपके या आपकी किसी गतिविधि का कोई रिकॉर्ड नहीं है। इसका मतलब यह भी है कि यह आपके आईएसपी, विज्ञापनदाताओं, कानून प्रवर्तन एजेंसी(Law Enforcement Agencies), या किसी और के साथ उस जानकारी को साझा नहीं कर सकता है जो जानना चाहते हैं कि आप क्या कर रहे हैं।

 

हालांकि, प्रैक्टिकली(व्यवहार में) सभी वीपीएन समान नहीं बनाए गए हैं। वीपीएन एक ब्लैक बॉक्स की तरह हैं, और उसी तरह की उनके पीछे की कंपनियां हैं, जिस कारण यह मुश्किल हो जाता है कि किस वीपीएन को चुना जाए। इस विषय में हम आपको सलाह देते हैं कि साइन इन करने या कोई वीपीएन सेवा प्राप्त करने से पहले उनकी गोपनीयता नीति और सेवा शर्तों को सावधानीपूर्वक पढ़ें

YOU MAY LIKE TO READ ON - browser extensions can see collect bank details कितने खतरनाक है ब्राउजर एक्सटेंशन

 

आप जो भी वीपीएन चुनते है वह इसलिए चुनते हैं, कि आप उसमें बहुत अधिक विश्वास रखते हैं, इसलिए वीपीएन सेवा लेने से पहले किसी भी सेवा प्रदाता के बारे में सावधानीपूर्वक शोध करें।

 

वीपीएन और इनकॉग्निटो ब्राउज़िंग का उपयोग एक साथ कैसे करें How to Use a VPN and Private Browsing Together

 

यद्यपि वीपीएन और इनकॉग्निटो मोड किसी भी कार्यक्षमता को आपस में साझा नहीं करते हैं, फिर भी वे एक साथ बहुत अच्छी तरह से काम कर सकते हैं। वीपीएन सिक्योरिटी के कई गैप को इनकॉग्निटो मोड का उपयोग करके भरा जा सकता है, तथा इनकॉगनिटो की कमियों को वीपीएन द्वारा कवर किया जाता सकता है। इन दोनों को मिलाकर उनका उपयोग करने का मतलब है कि आप तीसरे पक्ष के लिए अपने आपको ट्रैक किया जाना कठिन बना रहे हैं, साथ ही आप जिस किसी के साथ अपने कंप्यूटर को साझा कर रहे हैं, उससे आपकी गोपनीयता की रक्षा भी कर रहे हैं।

 

उदाहरण के लिए, इनकॉग्निटो-ब्राउज़िंग विंडो में, आपको अपने Google या फेसबुक खातों में साइन इन करने का रिकॉर्ड नहीं रखा जाएगा, और ब्राउज़ करते समय आपके द्वारा एकत्र की गई कोई भी कुकी भी हटा दी जाएगी। यह काम इनकॉग्निटो ब्राउजिंग ने किया है साथ ही, आप जिन वेबसाइटों से जुड़ते हैं, वे आपका वास्तविक आईपी पता नहीं देख सकते हैं, और आपका इंटरनेट सेवा प्रदाता यह नहीं देख सकता है कि आप किन वेबसाइटों से जुड़ रहे हैं।

यह आपको सापेक्ष(relative) गुमनामी(anonymity) में ब्राउज़ करने की अनुमति देता है यह काम वीपीएन का है - हालांकि आप अभी भी वीपीएन सेवा प्रदाता पर ही भरोसा कर रहे हैं।

YOU MAY LIKE TO READ ON - Google ड्राइव डॉक्यूमेंट रीडऑनली कैसे बनाएं How to Make Google Drive Docs Readonly

 

तो वीपीएन और ही इनकॉग्निटो मॉड मोड आपको पूर्ण गोपनीयता की गारंटी दे सकते हैं, यद्यपि इन दोनों को एक साथ उपयोग करने से आपको केवल एक का उपयोग करने की तुलना में बहुत अधिक लाभ मिल सकता है तथा लगभग पूर्ण गोपनीयता के करीब ले आता है। हमारी व्यक्तिगत राय यह है कि कोई भी वीपीएन सेवा प्रदाता पूर्णतया विश्वसनीय नहीं है इसलिए इस विषय में निर्णय लेने से पहले सावधानीपूर्वक विचार करें।

 

आशा करते हैं कि हमारा प्रयास आपको पसंद आया होगा हमारी वेबसाइट पर विजिट करने के लिए धन्यवाद। अगर आप हमसे कुछ और पूछना चाहते हैं या हमसे संपर्क करना चाहते हैं तो हमारी पोस्ट पर कमेंट करके या हमारी वेबसाइट के होम पेज पर मौजूद कांटेक्ट फार्म का इस्तेमाल करके हमसे संपर्क कर सकते हैं अगर आप हमसे संपर्क करेंगे तो हमें बहुत प्रसन्नता होगी नमस्कार धन्यवाद आपका दिन शुभ हो

,Do I need incognito with VPN. vpn for incognito mode,vpn incognito chrome,free vpn,does vpn work in incognito, incognito vpn,best vpn, nord vpn, express vpn

0 टिप्पणियाँ:

टिप्पणी पोस्ट करें

Please Donot spam